-->
<

असम के मुख्यमंत्री हिमांता बिस्वा सरमा ने BTR के BPF से दोस्ती का हाथ बढ़ा दिया है ।

असम के मुख्यमंत्री हिमांता बिस्वा सरमा ने BTR के BPF से दोस्ती का हाथ बढ़ा दिया है ।
असम के मुख्यमंत्री हिमांता बिस्वा सरमा ने BTR के BPF से दोस्ती का हाथ बढ़ा दिया है। ©Provided by Bodopress


असम राज्य के मूल निवासी 

बोड़ो (असमिया: বড়ো/बड़ो) पूर्वोत्तर भारत के असम राज्य के मूल निवासी हैं और भारत की एक महत्वपूर्ण जनजाति हैं। बोड़ो समुदाय स्वयं एक बृहत बोड़ो-कछारी समुदाय का हिस्सा माने जाते हैं। सन् 2011 की भारतीय राष्ट्रीय जनगणना में लगभग 20 लाख भारतीयों ने स्वयं को बोड़ो बताया था जिसके अनुसार वे असम की कुल आबादी के 10.4%  हैं। भारतीय संविधान की छठी धारा के तहत वे एक अनुसूचित जनजाति हैं।

पूर्वोत्तर भारत के असम राज्य के मूल निवासी हैं और भारत की एक महत्वपूर्ण जनजाति, जिसमें 20 साल से शासन  कर  रहे BPF पार्टी का इस साल मार्च में विधानसभा चुनाव में बड़े झटका लगा था। ये पार्टी कांग्रेस के नेतृत्व वाले ' महाजोत ' (महागठबंधन) में  शामिल था। 

असम के   बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (bf) ने इस साल मार्च में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले अस्तित्व में आए कांग्रेस के नेतृत्व वाले ' महाजोत ' (महागठबंधन) से बाहर निकलने के बाद सहयोगी के रूप में सत्तारूढ़ भाजपा की ओर लौटने के लिए स्पष्ट बोली में असम के मुख्यमंत्री हिमांता बिस्वा सरमा ने BTR के BPF से दोस्ती का हाथ बढ़ा दिया है

कुछ दिन पहले असम कांग्रेस ने AIUDF से संबंध तोड़ने का फैसला किया था। एक और बड़े सहयोगी BPF के बाहर होने से असम की छह विधानसभा सीटों पर उपचुनाव से ठीक पहले विपक्षी राजनीतिक दलों के गठबंधन को बड़ा झटका लगा है।

प्रबिन बर' ने संवाददाताओं से कहा

BPF  के महासचिव प्रबिन बर' ने संवाददाताओं से कहा, हमने शुक्रवार को मुख्यमंत्री से मुलाकात की और भाजपा को दोस्ती का प्रस्ताव सौंपा। हमने उन्हें सूचित कर दिया है कि BPF अब विपक्ष में नहीं रहना चाहता है। बल्कि हमारी दिलचस्पी है कि हम सरकार के साथ रहें और जनता के लिए मिलकर काम करें। इसलिए हम भाजपा के सहयोगी बनना चाहते हैं।

उन्होंने आगे कहा, मुख्यमंत्री ने हमसे कहा कि वह समावेशी सरकार चाहते हैं और अगर कोई BJP से दोस्ती चाहता है तो पार्टी इस पर विचार करेगी। 

हालांकि, असम के मंत्री पिजुश हजारिका ने शनिवार को स्पष्ट किया कि सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल होने वाले BPF से बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल एरिया पर शासन करने वाली यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (UPPL) के साथ उनके गठबंधन पर कोई असर नहीं पड़ेगा । उन्होंने कहा, 'लोगों के व्यापक हित में भाजपा असम के हितों की रक्षा और रक्षा के लिए समान विचारधारा वाली ताकतों को एकजुट करना चाहेगी।

 सबसे बड़ा राजनीतिक संगठन रहा था

करीब 20 साल तक बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (BPF) पश्चिमी असम के बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल एरिया में सबसे बड़ा राजनीतिक संगठन रहा था । दिसंबर 2020 में, यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (UPPL) भाजपा की मदद से बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल (BTC) का नियंत्रण करने में कामयाब रहा, जो 17 साल से BPF नियंत्रण में था ।

BPF को इस साल विधानसभा चुनाव में भी बड़ा राजनीतिक झटका लगा था, जिसमें UPPL के नेतृत्व में प्रमोद बर' ने BTC क्षेत्र की 12 में से छह सीटें जीतीं । पिछले तीन चुनावों में सभी 12 सीटें जीतने वाली BPF को सिर्फ चार से संतुष्ट होना पड़ा जबकि भाजपा ने दो सीटें जीतकर अपनी उपस्थिति का अहसास कराया था ।

BPF राज्य में भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन का भी हिस्सा था और राज्य में भाजपा के नेतृत्व वाली पिछली गठबंधन सरकार में तीन मंत्री थे। दिसंबर में BTC चुनाव में भाजपा के साथ पार्टी की रास्ते जुदा हो गई और विधानसभा चुनाव में वह कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन में शामिल हो गई । भाजपा ने UPPL से हाथ मिलाया हैं । 

बोड़ो लोगों की मातृभाषा

बोड़ो लोगों की मातृभाषा भी बोड़ो भाषा कहलाती है, जो एक ब्रह्मपुत्री भाषा है। ब्रह्मपुत्री भाषाएँ तिब्बती-बर्मी भाषा-परिवार की एक शाखा है। धार्मिक दृष्टि से 2001 की जनगणना में लगभग 90% प्रतिशत बोड़ो हिन्दू थे।

Post a Comment

Thanks for messaging us.

Previous Post Next Post

Offer

<

Mega Offer