-->

Trending News, 👉 प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और संयुक्त राज्य अमेरिका की उप राष्ट्रपति कमला हैरिस के बीच बैठक,  👉 'ग्लोबल सिटीजन लाइव' में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वीडियो संबोधन का पाठ  👉राज्यों/केंद्रेट में COVID-19 वैक्सीन उपलब्धता पर अद्यतन, 78.58 करोड़ से अधिक वैक्सीन की खुराक प्रदान की गई  👉श्री सर्वानंद सोनोवाल ने उडुपी स्थित आयुर्वेद एवं चिकित्सालय के कॉलेज में शुभारंभ किया।  👉COVID-19 टीकाकरण अद्यतन - दिन 246, पिछले 10 करोड़ डोज सिर्फ 11 दिनों में दिलाई  👉खाद्य तेल की दैनिक थोक कीमतों में शुल्क की मानक दर में कमी के बाद काफी गिरावट,  👉Bodo's Famouse food Anla Kharwi, बोडो dishes खारोई के बिना असंभव है ,   👉Contact us to promotion yours product video & Advertisement. Mobile No 9395335737.   Donate For Tangla Bagh Para Bathw Temple Construction, Thanks for Visiting




श्री सोनोवाल दक्षिण-पूर्व एशिया के विकासशील राष्ट्रों के बीच सीमा पार संपर्क के महत्व को रेखांकित करते हुए

श्री सोनोवाल दक्षिण-पूर्व एशिया के विकासशील राष्ट्रों के बीच सीमा पार संपर्क के महत्व को रेखांकित करते हुए
श्री सोनोवाल दक्षिण-पूर्व एशिया के विकासशील राष्ट्रों के बीच सीमा पार संपर्क के महत्व को रेखांकित करते हुए : ©Provided by Bodopress

श्री सोनोवाल दक्षिण-पूर्व एशिया के विकासशील राष्ट्रों के बीच सीमा पार संपर्क के महत्व को रेखांकित करते हुए ; भारत-आसियान कनेक्टिविटी साझेदारी के भविष्य पर एशिया शिखर सम्मेलन को संबोधित किया। 

केंद्रीय बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग और आयुष मंत्री श्री सर्वानंद सोनोवाल ने भारत और दक्षिण-पूर्व एशिया के विकासशील देशों के बीच सीमा पार संपर्क के महत्व को रेखांकित किया है । नई दिल्ली से भारत-एशिया संपर्क साझेदारी के भविष्य पर एशिया देश  शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि एशिया देश के बीच अधिक संपर्क लंबे समय से एशिया -भारत साझेदारी के लिए एक आर्थिक और रणनीतिक दोनों उद्देश्य रहा है । 

उन्होंने कहा कि कनेक्टिविटी ट्रांसमिशन चैनल प्रदान करती है जिसके माध्यम से पूरे क्षेत्र में विकास के आवेग फैल सकते हैं और आर्थिक और सामाजिक प्रगति की गतिशीलता को जोड़ सकते हैं ।

उन् होंने कहा कि भारत- एशिया देश मुक्त व् यापार समझौता (FTA) अपने पूर्वी पड़ोसियों के साथ भारत के बढ़ते संबंधों के लिए केंद्रीय है। इस दिशा में उन्होंने कहा कि कंबोडिया, लाओस और वियतनाम के लिए त्रिपक्षीय राजमार्ग के विस्तार से भारत के पूर्वोत्तर पड़ोसियों के साथ भारत के पूर्वोत्तर में अधिक संपर्क और आर्थिक एकीकरण संभव हो सकेगा । 

उन्होंने बताया कि भारत ने म्यांमार में 1,360 किलोमीटर के त्रिपक्षीय राजमार्ग के दो प्रमुख हिस्सों के निर्माण में मदद की है, लेकिन कई अन्य खंडों पर काम और लगभग 70 पुलों के उन्नयन को विभिन्न कारकों द्वारा रखा गया है । यह राजमार्ग ASEAN क्षेत्र में बाजारों तक पहुंच की अनुमति देगा और लोगों के बीच संबंधों को बढ़ावा देगा ।

श्री सोनोवाल ने सीमा पार परिवहन और व्यापार को सुगम बनाने के लिए सदस्य देशों की राष्ट्रीय परिवहन सुविधा समितियों (NTFC) के गठन पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि भारत और पड़ोसी दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों के बीच भौतिक संपर्क से सीमावर्ती क्षेत्रों में छोटे और मझोले आकार के उद्यम व्यापार के नए अवसर तलाश सकेंगे।

मंत्री महोदय ने यह महसूस करने की आवश्यकता पर भी बल दिया कि भारत और एशिया देश बढ़ते मध्यम वर्ग और युवा आबादी के साथ तेजी से बढ़ते उपभोक्ता बाजार हैं जो तेजी से डिजिटल रूप से जुड़े हुए हैं । जैसे माल की आवाजाही और भौतिक कनेक्टिविटी से परे, दो क्षेत्रों के लिए डिजिटल कनेक्टिविटी बढ़ाने के तरीके तलाशना भी महत्वपूर्ण है । 

उन्होंने कहा कि भारत सरकार विभिन्न नीतियों और सुधारों के जरिए भारत को ग्लोबल डाटा हब में तब्दील करने के प्रयास कर रही है। भारत के डेटा सेंटर उद्योग को 2021-23 के दौरान 560 मेगावाट जोड़ने की उम्मीद है जिससे 6 मिलियन वर्ग फुट की अचल संपत्ति की आवश्यकता होगी। उन्होंने कहा कि उद्योग 447 मेगावाट से 2023 तक 1,007 मेगावाट तक तेजी से बढ़ने की उम्मीद है।

Post a Comment

Thanks for messaging us.

Previous Post Next Post

Response1