-->
<

पोषण वाटिका के तहत पोषण और हर्बल पौधों के रोपण से बाहरी निर्भरता कम होगी: डॉ. मुंजपारा महेंद्रभाई

पोषण वाटिका के तहत पोषण और हर्बल पौधों के रोपण से बाहरी निर्भरता कम होगी: डॉ. मुंजपारा महेंद्रभाई
पोषण वाटिका के तहत पोषण और हर्बल पौधों के रोपण से बाहरी निर्भरता कम होगी: डॉ. मुंजपारा महेंद्रभाई: 

©Provided by Bodopress

पोषण वाटिका: शरीर के लिए आवश्यक सन्तुलित आहार लम्बे समय तक नहीं मिलना ही कुपोषण है। कुपोषण के कारण बच्चों और महिलाओं की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, जिससे वे आसानी से कई तरह की बीमारियों के शिकार बन जाते हैं। अत: कुपोषण की जानकारियाँ होना अत्यन्त जरूरी है। कुपोषण प्राय: पर्याप्त सन्तुलित अहार के आभाव में होता है।

कारण
  • फॉलिक एसिड की कमी
  • विटामिन बी-12 की कमी
  • लौह तत्वों की कमी
  • कुछ बीमारी जिसकी वजह से रु धिर कोशिका का विखंडन होता
  • मलेरिया जैसे संक्रमण का दोबारा शिकार होना
  • कुछ प्रकार का बोन मैरो रोग
  • घायल होने या बीमारी के कारण रक्त ह्रास
  • अल्प आहार से कुपोषण का खतरा

पोषण वाटिका के तहत पोषण और हर्बल पौधों के रोपण से बाहरी निर्भरता कम होगी: डॉ मुंजपारा महेंद्रभाई

कुपोषण उन्मूलन के लिए पोषण वाटिका के महत्व पर वेबिनार का आयोजन

आयुष मंत्रालय और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने संयुक्त रूप से कुपोषण उन्मूलन के लिए पोषण वाटिका के महत्व पर एक  webinar का आयोजन किया।

इस वेबिनार में आयुष एवं महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री डॉ. मुंजपारा महेंद्रभाई भी मौजूद थे। इनदेवर पांडेय, सचिव MoWCD; वैद्य राजेश कोटेचा, सचिव, आयुष मंत्रालय; नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद (एनआईए, डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी), डॉ. जेएलएन शास्त्री, एनएमपीबी के पूर्व सीईओ प्रो मीता कोटेचा, एनआईए की प्रो-वीसी, वरलक्ष्मी वेंकटपति, पॉलिसी कंसल्टेंट और इंडिपेंडेंट रिसर्चर; दूसरों के बीच

वक्ताओं ने आंगनबाड़ी, स्कूलों व किचन गार्डन में हर्बल पौधे लगाने के महत्व पर चर्चा की, ताकि गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाओं व बच्चों के लिए पौष्टिक भोजन व औषधीय पौधों की आसानी से उपलब्धता सुनिश्चित की जा सके।

महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता

webinar को संबोधित करते हुए डॉ. मुंजपारा ने कहा, पोषण अभियान का उद्देश्य कुपोषण की समस्या से निपटने के लिए विभिन्न मंत्रालयों के बीच तालमेल को प्रोत्साहित करना है । पोषण और हर्बल पेड़ों के रोपण से बाहरी निर्भरता कम होगी और समुदायों को उनकी पोषण सुरक्षा के लिए अमानीरभर बनाना होगा । 

मंत्री महोदय ने कहा कि पोषण वाटिका परिवार की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त फलों और सब्जियों की निरंतर आपूर्ति के माध्यम से सूक्ष्म पोषक तत्व प्रदान करके आहार विविधता को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है, जो घरेलू या सामुदायिक स्तर पर कुपोषण से निपटने के लिए खाद्य सुरक्षा और विविधता प्रदान करने के लिए एक टिकाऊ मॉडल साबित हो सकता है । उन्होंने आगे कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में पर्याप्त जगह है और न्यूट्री गार्डन/पोषणवाटिकास की स्थापना कहीं सरल है क्योंकि कृषि परिवार कृषि में शामिल हैं ।

आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा ने बताया कि आयुष पद्धतियों में आहार और पोषण के बारे में विस्तार से बताया गया है। उन्होंने कहा कि उनका मंत्रालय पोषण वाटिकाओं की स्थापना के अभियान को आगे ले जाने के लिए 3,000 आंगनबाड़ियों के साथ सहयोग करेगा और वहां लगाए जाने वाले पोषण और हर्बल पेड़ों पर भी फैसला करेगा।  अगर हम पोषण पर ध्यान देते हैं तो दवाओं की कोई जरूरत नहीं होगी । उन्होंने एक शास्त्र से एक कविता का हवाला देते हुए कहा, अगर हम अपने आहार पर ध्यान नहीं देते हैं, तो दवाएं भी काम नहीं करेंगे ।

MoWCD के सचिव इनदेवर पांडेय ने कहा कि आयुष मंत्रालय के साथ उनका मंत्रालय यह सुनिश्चित करने में सबसे आगे था कि महिलाओं और बच्चों की भलाई पर ध्यान दिया जा रहा है ।

पोषण अभियान

पोषण अभियान शुरू करने के पीछे मुख्य उद्देश्य कुपोषण की समस्या को दूर करना है । उन्होंने कहा, आंगनबाड़ियों में 40% लोग शामिल हैं जो गरीब हैं और उन्हें उचित पोषण नहीं मिलता है जबकि पोषण अभियान अन्य 40% को कवर करता है जो गरीब नहीं हो सकते हैं लेकिन उचित पोषण के बारे में जानकारी की जरूरत है ।

नीति सलाहकार और स्वतंत्र शोधकर्ता वरलक्ष्मी वेंकटपति ने सुझाव दिया कि मोरिंगा, अमरूद, केला और तुलसी जैसे पौधे एक पोषण वाटिका में पौधे लगाने के लिए महान उम्मीदवार हैं क्योंकि वे महिलाओं और बच्चों में कुपोषण की समस्याओं से निपटते हैं ।

दो बहुत ही सूचनाओं से भरे प्रस्तुतियों में प्रो मीता कोटेक और डॉ जेएलएन शास्त्री ने आगे बढ़ाने और अपस्केलिंग की संभावनाओं को रेखांकित करते हुए आयुर्वेद और मंत्रालय की दृष्टि और कार्यान्वयन रणनीतियों दोनों को साझा किया ।

 कुपोषण का खतरा और लक्षण 

इसके लक्षण तीन डी हैं, यानी डीमेंसिया (मानसिक लक्षण), डरमेटाइटिस (सूखी त्वचा का घाव) और डायरिया। ओस्टियोपोरोसिस, जो हड्डियों को कमजोर करने की बीमारी है, कुपोषण के कारण हड्डियों को प्रभावित करनेवाली सबसे आम बीमारी है। हड्डियों की मजबूती 35 साल की उम्र तक बढ़ती है और उसके बाद स्थिर हो जाती है।

Post a Comment

Thanks for messaging us.

Previous Post Next Post

Offer

<

Mega Offer