-->

क्या है ई-रूपी? और ई-रूपी से उपभोक्ता को क्या लाभ होने वाला है ?

क्या है ई-रूपी? और ई-रूपी से उपभोक्ता को क्या लाभ होने वाला है ?

क्या है ई-रूपी? और ई-रूपी से उपभोक्ता को क्या लाभ होने वाला है ? ©Provided by Bodopress/Karan Singh

क्या है ई-रूपी? और ई-रूपी से उपभोक्ता को क्या लाभ होने वाला है? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को इलेक्ट्रॉनिक वाउचर आधारित डिजिटल भुगतान प्रणाली ई-रूपी की शुरुआत की । ई-रूपी डिजिटल पेमेंट के लिए कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस (Contactless) इंस्ट्रूमेंट है। यह एक QR Code या SMS स्ट्रिंग के माध्यम से लाभार्थियों के मोबाइल फोन तक पहुंचा दिया जाता है ।

इस नए one time payment मैकेनिज्म के Voucher सर्विस प्रोवाइडर पर बिना कार्ड, डिजिटल पेमेंट ऐप या इंटरनेट बैंकिंग Access के वाउचर को रिडीम कर सकेंगे । 

ई-रूपी से उपभोक्ता को क्या लाभ होने वाला हैं ans, इस प्लेटफॉर्म को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (एमओएचएफडब्ल्यू) और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से अपने यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) प्लेटफॉर्म पर विकसित किया है ।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने हाल ही में एक बयान में कहा था कि ई-रूपी का उपयोग मां और बाल कल्याण योजनाओं, टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों, आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, उर्वरक सब्सिडी आदि योजनाओं के तहत दवाओं और पोषण सहायता प्रदान करने के लिए बनाई गई योजनाओं के तहत सेवाएं देने के लिए किया जा सकता है ।

ई-रूपी से उपभोक्ता को क्या लाभ होने वाला हैं online

इसमें कहा गया है कि निजी क्षेत्र भी अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व कार्यक्रमों के हिस्से के रूप में इन डिजिटल वाउचर का लाभ उठा सकता है ।

नए मंच के शुभारंभ पर बोलते हुए मोदी ने कहा कि ई-रूपी वाउचर सरकार द्वारा डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) योजना को मजबूत करने में अहम भूमिका निभाने जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शाम साढ़े चार बजे ई-रूपी, एक व्यक्ति और उद्देश्य-विशिष्ट डिजिटल भुगतान समाधान का शुभारंभ किया । प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा कि कल्याणकारी सेवाओं की लीक प्रूफ डिलीवरी सुनिश्चित करने की दिशा में यह एक क्रांतिकारी पहल होने की उम्मीद है ।

"डिजिटल प्रौद्योगिकी एक प्रमुख तरीके से जीवन को बदल रही है और ' ईज ऑफ लिविंग ' को आगे बढ़ा रही है । मोदी ने रविवार को ट्वीट कर कहा, कल शाम 4:30 बजे, 2 अगस्त, ई-रूपी लॉन्च करेगा, जो एक भविष्य डिजिटल भुगतान समाधान है जो अपने उपयोगकर्ताओं के लिए कई लाभ प्रदान करता है ।

क्या है ई-रूपी?

ई-रूपी डिजिटल पेमेंट के लिए कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस इंस्ट्रूमेंट है। यह QR Code या SMS स्ट्रिंग बेस्ड ई-वाउचर है, जो लाभार्थियों के मोबाइल तक पहुंचाया जाता है ।

इस One Time पेमेंट मैकेनिज्म के यूजर्स सर्विस प्रोवाइडर पर बिना कार्ड, डिजिटल पेमेंट App या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के वाउचर को रिडीम कर सकेंगे ।

इसे भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम द्वारा वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर विकसित किया गया है ।

ई-रूपी सेवाओं के प्रायोजकों को बिना किसी भौतिक इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं के साथ जोड़ता है। यह भी सुनिश्चित करता है कि सर्विस प्रोवाइडर को पेमेंट ट्रांजैक्शन पूरा होने के बाद ही किया जाए। प्रकृति में प्री-पेड होने के कारण, यह किसी भी मध्यस्थ की भागीदारी के बिना सेवा प्रदाता को समय पर भुगतान करने का आश्वासन देता है।

ई-रूपी से उपभोक्ता को क्या लाभ होते हैं?

निम्नलिखित उपभोक्ता को ई-रूपी लाभ हैं: ई-रूपी से उपभोक्ता को क्या लाभ होने वाला है x

संपर्क रहित - लाभार्थी को वाउचर का प्रिंटआउट नहीं ले जाना चाहिए, आसान मोचन - 2 चरण मोचन प्रक्रिया, सुरक्षित और सुरक्षित - लाभार्थी को व्यक्तिगत विवरण साझा करने की आवश्यकता नहीं है जबकि मोचन इसलिए गोपनीयता बनाए रखी जाती है, कोई डिजिटल या बैंक उपस्थिति की आवश्यकता नहीं है - वाउचर को भुनाने वाले उपभोक्ता को डिजिटल भुगतान App या बैंक खाता की आवश्यकता नहीं है।  ई-रूपी से उपभोक्ता को लाभ होने वाला है a to z

Post a Comment

Thanks for messaging us.

Previous Post Next Post

Response1